Hindi Shayari - Poetry In Hindi

Best Hindi Sher O Shayari And Ghazal Collection




2 Lines Yaad Shayari – तबीयत अपनी जब घबराती है सुनसान रातों में

तबीयत अपनी जब घबराती है सुनसान रातों में
हम ऐसे में तिरी यादों की चादर तान लेते हैं


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RJShayari © 2015