Hindi Shayari - Poetry In Hindi

Best Hindi Sher O Shayari And Ghazal Collection



Aankh Shayari – कैद खानें हैं… बिन सलाखों के

कैद खानें हैं… बिन सलाखों के
कुछ यूँ चर्चे हैं… तुम्हारी आँखों के





Leave a Reply



RJShayari © 2015