Hindi Shayari - Poetry In Hindi

Best Hindi Sher O Shayari And Ghazal Collection




Anmol Vachan – Hindi Suvichar – बुराई इसलिये नही बढती की

बुराई इसलिये नही बढती की
बुरे लोग बढ गये है,
बुराई इसलिये बढती है कि
बुराई को सहन करने वाले लोग बढ गये हैं !


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RJShayari © 2015