Hindi Shayari - Poetry In Hindi

Best Hindi Sher O Shayari And Ghazal Collection




Hindi Ke Prerak Vichar – किसी के अच्छाई का इतना भी

किसी के अच्छाई का इतना भी
फायदा मत उठाओ की वो बुरा
बनने के लिये मजबुर बन जाये…
”बुरा” हमेशा वही बनता है, जो ”अच्छा” बनके टूट चूका होता है !


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RJShayari © 2015