Hindi Shayari - Poetry In Hindi

Best Hindi Sher O Shayari And Ghazal Collection




Momin Khan Momin Ghazal Shayari Hindi – Roya Karenge App Bhi Pehro Isi Tarah

रोया करेंगे आप भी पहरों इसी तरह,
अटका कहीं जो आप का दिल भी मेरी तरह

मर चुक कहीं कि तू ग़मे-हिज़्राँ से छूट जाये
कहते तो हैं भले की वो लेकिन बुरी तरह

ना ताब हिज्र में है ना आराम में,
कमबख़्त दिल को चैन नही है किसी तरह

ना जाए वाँ बने है ना बिन जाए चैन है,
क्या कीजिए हमें तो है मुश्किल सभी तरह

लगती है गालियाँ भी तेरे मुँह से क्या भली,
क़ुर्बान तेरे, फिर मुझे कह ले इसी तरह

पामाल हम न होते फ़क़त जौरे-चर्ख़ से
आयी हमारी जान पे आफ़त कई तरह

हूँ जाँ-बलब बुताने-ए-सितमगर के हाथ से,
क्या सब जहाँ में जीते हैं “मोमिन” इसी तरह

– Momin Khan Momin


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RJShayari © 2015