Hindi Shayari - Poetry In Hindi

Best Hindi Sher O Shayari And Ghazal Collection

4 lines mohabbat shayari

4 Lines Mohabbat Shayari – शिकवे भी हैं शिकायतें भी बहुत है

शिकवे भी हैं, शिकायतें भी बहुत है
इस दिल को मगर उनसे मुहाब्बत भी बहुत है
ये भी है तम्मना की उनको दिल से भुला दें
इस दिल को मगर उनकी जरुरत भी बहुत है


Advertisements
loading...
loading...
RJShayari © 2015