Hindi Shayari - Poetry In Hindi

Best Hindi Sher O Shayari And Ghazal Collection



Tag: aankh poetry in hindi

4 Lines Aankh Shayari – कल तुम्हे फुरसत ना मिली तो क्या करोगे

कल तुम्हे फुरसत ना मिली तो क्या करोगे
इतनी मोहलत ना मिली तो क्या करोगे
रोज़ कहते हो कल बात करेंगे,
कल हमारी आँखें ही ना खुली तो क्या करोगे




Aankh Shayari – कैद खानें हैं… बिन सलाखों के

कैद खानें हैं… बिन सलाखों के
कुछ यूँ चर्चे हैं… तुम्हारी आँखों के






RJShayari © 2015