Hindi Shayari - Poetry In Hindi

Best Hindi Sher O Shayari And Ghazal Collection

Loading...

Dard Bhari Shayari In Hindi Font

दुखती रग पर ऊँगली रखकर पूछ रही हो कैसे हों

दुखती रग पर ऊँगली रखकर पूछ रही हो कैसे हों …
तुमसे ये उम्मीद नहीं थी दुनिया चाहे जैसी हों …


Advertisements

Loading...

क्यूँ शर्मिंदा करते हो रोज

Sponsored Content

क्यूँ शर्मिंदा करते हो रोज,
हाल हमारा पूँछ कर …
हाल हमारा वही है जो तुमने बना रखा हैं. .


Advertisements

Loading...

नमक तुम हाथ में लेकर, सितमगर सोचते क्या हो

नमक तुम हाथ में लेकर, सितमगर सोचते क्या हो,,
हजारों जख्म है दिल पर, जहाँ चाहो छिड़क डालो…!!


Advertisements

Loading...
loading...
RJShayari © 2015