Hindi Shayari - Poetry In Hindi

Best Hindi Sher O Shayari And Ghazal Collection

Facebook Hindi Suvichar

इसलिए खामोश रह के उम्र पूरी काट दी

इसलिए खामोश रह के उम्र पूरी काट दी…
ज़िन्दगी तुझसे बहस का फायदा कोई नहीं…


Advertisements

loading...

डूबे हुओं को हमने बिठाया था और फिर

डूबे हुओं को हमने बिठाया था और फिर
कश्ती का बोझ कहकर उतारा हमें गया !!!”


Advertisements

loading...

हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो ग़म मिलते हैं

Sponsored Content

हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो ग़म मिलते हैं ।

हम इसी वास्ते हर शख्स से कम मिलते हैं ।

वक़्त ने ज़रा सी करवट क्या ली

वक़्त ने ज़रा सी करवट क्या ली
गैरो की लाइन में सबसे आगे पाया अपनों को !!!!!


Advertisements

loading...

ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें भी परेशान हो जाएं

ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें भी परेशान हो जाएं !
अगर परिंदे भी हिन्दू और मुस्लमान हो जाएं…


Advertisements

loading...
loading...
RJShayari © 2015