Hindi Shayari - Poetry In Hindi

Best Hindi Sher O Shayari And Ghazal Collection




Tag: romantic shayari wallpaper for fb

Hindi Romantic Shayari Wallpaper Download – तेरे इबादत का जुनून इस कदर छाया है


Hindi Me Shayari Wallpaper

 

Hindi Shayari Wallpaper Download

 

तेरे इबादत का जुनून इस कदर छाया है,
तेरी याद ने मेरे रूह को तड़पाया है।
ना जा मुझे छोड़ कर ऐ मेरे दोस्त,
देख फिर से प्यारा सावन आया है।

Hindi Shayari Wallpaper For Whatsapp – सुनो मेरी नजर से कभी खुद को देखना


Hindi Shayari Wallpaper For Mobile

 

Hindi Shayari Wallpaper For Whatsapp

 

सुनो,
मेरी नजर से कभी खुद को देखना,
तुम खुद ही खुद पे फिदा हो जाओगे…..



Hindi Shayari Wallpaper For Facebook – मैंने जब भी चाहा तेरी रूह को ही चाहा


Most Romantic Touching Hindi Shayari Picture For Lovers GF BF

 

Hindi Shayari Wallpaper For Facebook

मैंने जब भी चाहा तेरी रूह को ही चाहा,
न कभी तेरे हुस्न की तमन्ना थी न ही तेरी खूबसूरती की !!

Romantic Shayari Wallpaper New – उतर के देख मेरी चाहत की गहराई में

Hindi Shayari Wallpaper Love

 

Hindi Shayari Wallpaper New

 

उतर के देख मेरी चाहत की गहराई में,
सोचना मेरे बारे मैं रात की तन्हाई में,
अगर हो जाए मेरी चाहत का एहसास तुम्हें,
तो मिलेगा मेरा अक्स तुम्हें अपनी परछाई में…



Hindi Shayari Wallpaper Free Download – साथ अगर दोगे मुस्करायेंगे ज़रूर

Hindi Shayari Wallpaper For Whatsapp

 

Hindi Shayari Wallpaper Free Download

 

साथ अगर दोगे मुस्करायेंगे ज़रूर,
प्यार अगर दिल से करोगे तो निभाएंगे ज़रूर,
राह में कितने कांटे क्यूँ न हो,
आवाज़ अगर दिल से दोगे तो आयेंगे ज़रूर…

Hindi Shayari Wallpaper For Mobile – मुझे कहना नहीं आता कैसे कहूँ

Hindi Shayari Wallpaper For Facebook

 

Hindi Shayari Wallpaper For Mobile

 

मुझे कहना नहीं आता कैसे कहूँ,
मुझे जताना नहीं आता कैसे बताऊँ,
बस जान लो तुम इतना,
हुई है दिल में एक दस्तक, कहीं वो तुम तो नहीं…



Romantic Shayari Wallpapers – Rooh Ko Tadpa Rahi Hai

Yaad shayari Wallpaper When Remembering someone special

Sad Shayari Wallpapers – Rooh Ko Tadpa Rahi Hai:

Rooh Ko Tadpa Rahi Hai Un Ki Yaad,
Dard Ban Kar Chaa Rahi Hai Un Ki Yaad,
Ishq Se Ghabra Rahi Hai Un Ki Yaad,
Rukte-Rukte Aa Rahi Hai Un Ki Yaad,
Wo Hanse Wo Zer-E-Lab Kuch Keh Uthe,
Khwab Se Dikhla Rahi Hai Un Ki Yaad,
Main To Khudari Ka Qayal Hun Magar,
Kya Karun Phir Aa Rahi Hai Un Ki Yaad,
Ab Khyal-E-Tark-E-Rabt Zabt Hi Se Hai,
Khud B Khud Sharma Rahi Hai Un Ki Yaad.

RJShayari © 2015