Hindi Shayari - Poetry In Hindi

Best Hindi Sher O Shayari And Ghazal Collection




Tag: Suvichar In Hindi

हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो ग़म मिलते हैं

हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो ग़म मिलते हैं ।

हम इसी वास्ते हर शख्स से कम मिलते हैं ।




सूरज ढला तो कद से ऊँचे हो गए साये

सूरज ढला तो कद से ऊँचे हो गए साये,
कभी पैरों से रौंदी थी, यहीं परछाइयां हमने..




RJShayari © 2015