अपने सायें से भी ज़यादा यकीं है मुझे तुम पर

अपने सायें से भी ज़यादा यकीं है मुझे तुम पर,
अंधेरों में तुम तो मिल जाते हो, साया नहीं मिलता……..!!




Leave a Reply