ऐ ज़िंदगी काश तू ही रूठ जाती मुझ से

ऐ ज़िंदगी काश तू ही रूठ जाती मुझ से,
ये रूठे हुए लोग मुझ से मनाये नहीं जाते…




Leave a Reply