कल रात चाँद बिकुल उनके जैसा था

कल रात चाँद बिकुल उनके जैसा था
वही नूर….. वही गरूर……वही सरूर,
वही उनकी तरह…… हमसे कोसो दूर ।।।




Leave a Reply