किसी के ज़ख्म का मरहम, किसी के ग़म का ईलाज

किसी के ज़ख्म का मरहम, किसी के ग़म का ईलाज ।।
लोगो ने बाँट रखा है मुझे.. दवा की तरह।।




Leave a Reply