कैसे कहु के दिलको तुम्हारी आरजू नही

कैसे कहु के दिलको तुम्हारी आरजू नही ,
मगर ये और बात है के, मेरी किस्मत में तुम नहीं..




Leave a Reply