तुजे किस्मत समझ कर सीने से लगाया था

तुजे किस्मत समझ कर सीने से लगाया था,
भूल गए थे के किस्मत बदलते देर नहीं लगती…!!




One comment

  1. ए कलम जरा झुककर चलना आज पहली बार ऐसा मुकाम आया है कि तेरी नोक के नीचे मेरी प्रिय lampi का नाम आया है

Leave a Reply