ना खुशी खरीद पाता हूं और ना गम बेच पाता हूं

ना खुशी खरीद पाता हूं और ना गम बेच पाता हूं

फिर भी ना जाने क्यूं हर रोज बाजार जाता हूं।




Leave a Reply