बला की प्यास के मारे हैं हम दोनों ज़माने में

“बला की प्यास के मारे हैं हम दोनों ज़माने में,
तुम्हारे सामने दरिया, हमारे सामने हो तुम।।।




Leave a Reply