बहुत जी लिये उनके लिये

बहुत जी लिये उनके लिये
“जो मेरे लिये” सब कुछ थे,

अब जीना है बस उनके लिये
“जिनके लिये हम” सब कुछ हैं.




Leave a Reply