सोचता हूँ एक शमशान बना लुँ दिल के अंदर

सोचता हूँ एक शमशान बना लुँ दिल के अंदर,
मरती है रोज ख्वाईशें एक एक करके…




Leave a Reply