हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो ग़म मिलते हैं

हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो ग़म मिलते हैं ।

हम इसी वास्ते हर शख्स से कम मिलते हैं ।




Leave a Reply