2 Lines Shayari – हमने काँटों को भी बड़ी नरमी से छुआ है

हमने काँटों को भी बड़ी नरमी से छुआ है यारों,
लोग कितने बेदर्द है फूलों को भी मसल देते है !




Leave a Reply