Aankh Shayari – कैद खानें हैं… बिन सलाखों के

कैद खानें हैं… बिन सलाखों के
कुछ यूँ चर्चे हैं… तुम्हारी आँखों के




Leave a Reply