Hindi Anmol Vachan – मैं जब किसी फ़क़ीर को हँसते हुवे

मैं जब किसी फ़क़ीर को हँसते हुवे देखता हूँ।

तो यकीन हो जाता है की….
खुशियों का तालुक दौलत से नही है..




Leave a Reply