Hindi Poetry On Yaad – और कुछ नहीं कहना, बस इतनी गुज़ारिश है

और कुछ नहीं कहना, बस इतनी गुज़ारिश है…

तुम मुझे उतनी ही मिल जाओ,जितनी याद आती हो…




Leave a Reply