Inspiring Sher O Shayari – और कुछ भी ‘दरकार’ नहीँ मुझे तुझसे

और कुछ भी ‘दरकार’ नहीँ मुझे तुझसे ‘मौला’
मेरी ‘चादर’ मेरे ‘पैरों’ के बराबर कर दे”..!!




Leave a Reply