Judai Shayari – जिगर है छलनी-छलनी आँखें लहू-लहू हैं

जिगर है छलनी-छलनी आँखें लहू-लहू हैं ……..
तेरी जुदाई ने मेरी रूह को यूँ तबाह कर दिया …….




Leave a Reply