Miss You Shayari – मेरी बिगडी आदतों में शुमार है आज़ भी

मेरी बिगडी आदतों में शुमार है आज़ भी,
तुम्हें सोचना, तुम्हें चाहना और चाहते रहना..




Leave a Reply