Mohabbat Sher O Shayari – एक तेरे सिवा हम किसी और के

एक तेरे सिवा हम किसी और के कैसे हो सकते हैं
तुही खुद सोच तेरे जैसा कोई और है क्या…




Leave a Reply