Mohabbat Sher O Shayari – चलो ये जुर्म भी कबूल है

चलो ये जुर्म भी कबूल है
जो तेरी इजाज़त के बगैर तुझे अपना समझा…




Leave a Reply