Mohabbat Sher O Shayari – नही बसती किसी और की सुरत अब

नही बसती किसी और की सुरत अब इन आँखो मे……

काश की हमने उसे इतने गौर से ना देखा होता…….




Leave a Reply