Mohabbat Sher O Shayari – मोहब्बतो के दिनों की यही खराबी है

मोहब्बतो के दिनों की यही खराबी है

ये रूठ जाएँ तो लौट कर नहीं आते




Leave a Reply