Prerak Shayari – अजीब सौदागर हैं ये वक़्त भी

अजीब सौदागर हैं ये वक़्त भी।।
जवानी का लालच दे के बचपन ले गया




Leave a Reply