Prerak Shayari – और एक दिन देखते देखते खर्च हो गयी जिंदगी

और एक दिन देखते देखते खर्च हो गयी जिंदगी..
फिजूलखर्ची की आदत थी बचपन से मुझे…..




Leave a Reply