Sad Sher O Shayari 2 Lines – हर बार मिली है मुझे

हर बार मिली है मुझे अनजानी सी सज़ा,
मैं कैसे पूछूं तकदीर से मेरा कसूर क्या है।




Leave a Reply