Sher O Shayari 2 Lines – तुम हक़ीक़त-ए-इश्क़ हों या फ़रेब

तुम हक़ीक़त-ए-इश्क़ हों या फ़रेब मेरी आँखों का,
न दिल से निकलते हो न मेरी ज़िन्दगी में आते हो…




Leave a Reply