Zakhm Shayari 2 Line Mein – जितना छिड़का है….तूने ज़ख़्मों पे…. उतना खाया

जितना छिड़का है….तूने ज़ख़्मों पे….
उतना खाया नही….नमक तेरा….!




Leave a Reply