Zakhm Shayari 2 Line Mein – मरहम न सही एक जख्म ही

मरहम न सही एक जख्म ही दे दो ..
महूसस तो हो के कोई हमें भुला नही..




Leave a Reply